चलचित्र

कार्मिक, लोक शिकायत एवं पेंशन मंत्रालय

केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने अपने लोकसभा क्षेत्र ऊधमपुर-कठुआ-डोडा में कोविड प्रभावित बच्चों के लिए 10 लाख रुपये का योगदान दिया

डॉ. जितेंद्र सिंह ने बच्चों के एक समूह से मुलाकात की, जिन्होंने वर्तमान महामारी के दौरान अपना भरण-पोषण करने वालों को खो दिया है

  1. प्रविष्टि तिथि: 05 JUN 2021 
 

केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने आज अपने लोकसभा क्षेत्र ऊधमपुर-कठुआ-डोडा में कोविड प्रभावित बच्चों के लिए 10 लाख रुपये का योगदान दिया, जो कि स्वैच्छिक/व्यक्तिगत स्रोतों के माध्यम से जुटाए गए हैं। कठुआ के उपायुक्त, श्री राहुल यादव ने निर्वाचन क्षेत्र के सभी छह जिलों के लिए नोडल प्राधिकरण के रूप में इस राशि का चेक प्राप्त किया।

अपनी कठुआ यात्रा के दौरान, डॉ. जितेंद्र सिंह ने उन बच्चों के एक समूह से भी मुलाकात की, जिन्होंने मौजूदा महामारी के दौरान अपना भरण-पोषण करने वालों को खो दिया है। उन्होंने कहा कि अपने करीबी और प्रियजनों के जाने की भरपाई किसी भी प्रकार से नहीं की जा सकती है, लेकिन अपनी अंतरात्मा की आवाज पर खरा उतरने के लिए हमने बहुत ही छोटा और विनम्र प्रयास करने की कोशिश की है ताकि हम इन बच्चों के साथ खड़े रह सकें।  

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि इस स्वैच्छिक राशि का योगदान उन बच्चों के लिए बहुत ही कम और मामूली है, जिन्होंने कोविड महामारी के कारण अपने परिवार की देखभाल करने वालों को खो दिया है लेकिन साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि वे लगातार कोशिश कर रहे हैं कि आने वाले समय में ज्यादा से ज्यादा सहायता राशि जुटा सकें। उन्होंने कहा कि ऐसे बच्चों के लिए पर्याप्त वित्तीय सहायता की घोषणा करने में प्रधानमंत्री नरन्द्र मोदी ने आगे बढ़कर अपना नेतृत्व प्रदान किया है और प्रधानमंत्री का यह कदम हम सभी को प्रेरित करता है कि हम इस अभूतपूर्व आपदा से प्रभावित लोगों की मदद करने के लिए आगे आएं और अपने साधनों के भीतर जहां तक संभव हो सके योगदान करें या जो कुछ भी संभव हो सके वो करें।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001B1JQ.jpg

डॉ. जितेंद्र सिंह द्वारा सौंपा गया आज का चेक उस राशि के अतरिक्त है जो उन्होंने पहले ही अपने सांसद कोष से 2.5 करोड़ रुपये की राशि अपने लोकसभा क्षेत्र के विभिन्न जिलों में कोविड केयर सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए आवंटित की है। अधिकारियों ने बताया कि आवंटित सांसद निधि में से 2.1 करोड़ रुपये से ज्यादा मूल्य की कोविड संबंधित वस्तुओं की अधिप्राप्ति और खरीद के लिए पहले ही कार्रवाई की जा चुकी है।

इस बीच, डॉ. जितेंद्र सिंह की व्यक्तिगत पहल से, पिछले एक महीने के दौरान विभिन्न स्रोतों के माध्यम से जुटाई गई कोविड संबंधित सामग्रियों की पांच खेप उनके निर्वाचन क्षेत्र के सभी छह जिलों के साथ-साथ जम्मू क्षेत्र के कुछ अन्य हिस्सों और कश्मीर घाटी में भी भेजी जा चुकी है।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि वे एक महीने से ज्यादा समय तक कोविड से पीड़ित रहे हैं और अस्पताल में भर्ती होने से पहले उन्होंने ऊधमपुर जिले में 200 करोड़ रुपये की लागत वाली मानसर झील परियोजना स्थल का अंतिम दौरा किया था। उन्होंने कहा कि उन्हें इस बात की बेहद खुशी है कि भगवान की कृपा से कोविड से ठीक होने के बाद उनकी पहली यात्रा फिर से उनके निर्वाचन क्षेत्र में ही हुई है, क्योंकि कठुआ उनके लोकसभा क्षेत्र का नोडल जिला है।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने इस बात पर संतोष व्यक्त किया कि पिछले वर्ष के अनुभव से सीख प्राप्त करते हए, उनके निर्वाचन क्षेत्र के सभी छह जिले बेहतर प्रदर्शन करने में सक्षम हुए हैं और वहां पर कुछ अन्य जिलों की तुलना में महामारी भी कम देखी गई है। उन्होंने इस चुनौती का सामना करने के लिए प्रशासन, चिकित्सा अधिकारियों, पार्टी नेतृत्व और नागरिक समाज के बीच रहे बेहतरीन समन्वय की सराहना की।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा हालांकि प्रत्येक जिले में ऑक्सीजन की उपलब्धता और पर्याप्त कोविड केयर सेंटर सुनिश्चित किए गए हैं लेकिन कठुआ ने ऑक्सीजन की अधिशेष उपलब्धता सुनिश्चित करने की दिशा में पहले से ही तैयारी कर ली थी और शुरुआती दिनों में ऑक्सीजन संयंत्र में थोड़ी सी चूक होने के दौरान भी समुदाय और समाज में विश्वास कायम रखने के लिए पड़ोसी जिलों से ऑक्सीजन सिलेंडर की तात्कालिक वैकल्पिक व्यवस्था की गई थी, जिससे किसी भी परिस्थिति में, किसी को भी ऑक्सीजन की किसी भी संभावित अनुपलब्धता के बारे में आशंका महसूस न हो सके। उन्होंने सामुदायिक नेताओं के सहयोग की भी सराहना की।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने फिर दोहराया कि इस प्रकार की महामारी के दौरान हम सभी को चाहिए कि हम अपने सभी मतभेदों से ऊपर उठें और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में कोरोना के खिलाफ युद्ध में अपना योगदान दें। उन्होंने कहा कि समुदाय की सेवा करते हुए और प्रशासन का सहयोग करते हुए हमें इस बात का भी ख्याल रखना चाहिए कि हमारी मौजूदगी से प्रशासन या स्वास्थ्य अधिकारियों की कार्यप्रणाली में किसी प्रकार की बाधा न पहुंचे।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने इस बात पर संतोष व्यक्त किया कि जम्मू-कश्मीर में हाल ही में हुई वृद्धि के बाद पिछले दो सप्ताह से महामारी में निरंतर गिरावट दर्ज की जा रही है।

कठुआ के उपायुक्त, राहुल यादव ने कोविड प्रबंधन पर अपनी संक्षिप्त प्रस्तुति दी।

इस अवसर पर डीडीसी चेयरमैन कर्नल महान सिंह, डीडीसी उपाध्यक्ष रघुनंदन सिंह बबलू, कठुआ नगरपालिका अध्यक्ष नरेश शर्मा, लखनपुर नगरपालिका अध्यक्ष रविंदर शर्मा, पूर्व मंत्री राजीव जसरोटिया, वरिष्ठ नेता प्रेमनाथ डोगरा, जनक भारती, गोपाल महाजन, रशपाल वर्मा, चेयरमैन हीरानगर नगर निगम एडवोकेट विजय शर्मा, पूर्व विधायक कुलदीप राज, राजेश मेहता एवं अन्य लोगों सहित प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी और जनप्रतिनिधियों के साथ-साथ प्रमुख नेता भी उपस्थित थे।

कठुआ पहुंचने के तुरंत बाद, डॉ. जितेंद्र सिंह ने सबसे पहले जनसंघ के वयोवृद्ध नेता, चौधरी छग्गर सिंह के आवास का दौरा किया, जिनका हाल ही में 101 वर्ष की आयु में निधन हो गया था। डॉ. जितेंद्र सिंह ने शोकसंतप्त परिवार के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की।

<><><><><>

    Mohd Aman

    Editor in Chief Approved by Indian Government

    Related Articles

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Back to top button