World

रक्षा मंत्रालय

भूटान में दंतक परियोजना अपनी डायमंड जुबली मना रही है। भूटान में भारतीय राजदूत श्रीमती रुचिरा कंबोज ने 24 अप्रैल, 2021 को सिम्टोखा के दंतक स्मारक में एक पुष्पांजलि अर्पित की। भारतीय सैन्य प्रशिक्षण दल (आईएमटीआरएटीके कमांडेंट मेजर जनरल संजीव चौहान और मुख्य अभियंता दंतक ब्रिग कबीर कश्यप ने भी इस स्मारक पर पुष्पांजलि अर्पित की। यह भारत और भूटान के बीच दोस्ती के बंधन को मजबूत करने में दंतक के कर्मियों द्वारा किए गए बलिदान के लिए एक श्रद्धांजलि थी। याद रहे कि भूटान में महत्वपूर्ण बुनियादी ढाँचे का निर्माण करते समय 1,200 से अधिक दंतक कर्मियों ने अपने जीवन का बलिदान दिया है।

24 अप्रैल, 1961 को भूटान के महामहिम तीसरे राजा और तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के दूरदर्शी नेतृत्व के परिणामस्वरूप प्रोजेक्ट दंतक की स्थापना की गई थी। भूटान के सामाजिक-आर्थिक विकास और तरक्की को प्रभावित करने में कनेक्टिविटी के अत्यधिक महत्व की पहचान करते हुएदंतक को राज्य में अग्रणी मोटर योग्य सड़कों के निर्माण का काम सौंपा गया था। दंतक ने 1968 में समद्रुप जोंगखर को त्रासीगंग से जोड़ने वाली सड़क को पूरा किया था। उसी वर्षथिम्फू को दंतक द्वारा फुंटशोलिंग से जोड़ा गया। कई भूटानियों ने भी स्वेच्छा से काम करना शुरू कर दिया था।

इन वर्षों में दंतक ने भूटान में असंख्य राजसी जरूरतों को पूरा किया हैजो कि वहां की राजशाही की दृष्टि और लोगों की आकांक्षाओं के अनुरूप है। परियोजना द्वारा निष्पादित कुछ अन्य उल्लेखनीय परियोजनाओं में पारो हवाई अड्डेयोनफुला एयरफील्डथिम्फू – त्रासीगंग राजमार्गदूरसंचार और हाइड्रो पावर इन्फ्रास्ट्रक्चरशेरुबसे कॉलेजकांग्लुंग और इंडिया हाउस एस्टेट का निर्माण शामिल है।

दंतक द्वारा सुदूरवर्ती क्षेत्रों में स्थापित चिकित्सा और शिक्षा सुविधाएं उन स्थानों में पहली थीं। सड़क के किनारे भोजन की दुकानों ने भूटानी लोगों को भारतीय व्यंजनों से परिचित कराया और भारतीय भोजन के लिए उनका स्वाद विकसित हुआ। फुंटशोलिंग और थिम्फू के बीच पड़ने वाली प्रसिद्ध तक्थी कैंटीन यात्रियों के लिए एक अनिवार्य पड़ाव बना रहा है।

जैसा कि दंतक भूटान में छह दशक का जश्न मना रहा हैयह परियोजना भूटान के महामहिम ड्रुक ग्यालपो के सपनों को साकार करने की दिशा में भूटान के समर्थन में अपनी प्रतिबद्धताभूटान की शाही सरकार की योजनाओं और राज्य के लोगों की आकांक्षाओं की पुष्टि करती है।

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/PIC17Y99.jpeg

 

*****

    Mohd Aman

    Editor in Chief Approved by Indian Government

    Related Articles

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Back to top button