News

Hartalika Teej Vrat 2022 Puja Muhurat Pujan Vidhi Samagri Niyam – Hartalika Teej Vrat 2022: हरतालिका तीज पर आज इस शुभ मुहूर्त में करें गौरी शंकर की पूजा, यहां जानें सही विधि और जरूरी नियम

[ad_1]

हरतालिका तीज 2022 मुहूर्त | Hartalika Teej 2022 Muhurat

  • भाद्रपद शुक्ल तृतीया तिथि की शुरुआत- 29 अगस्त 2022 दोपहर 3 बजकर 21 मिनट
  • भाद्रपद शुक्ल तृतीया तिथि की समाप्ति- 30 अगस्त 2022, दोपहर 3 बजकर 34 मिनट
  • सुबह पूजा का मुहूर्त- सुबह 06 बजकर 05 मिनट से 08 बजकर 38 मिनट तक
  • प्रदोष काल पूजा मुहूर्त- शाम 06 बजकर 33 मिनट से 08 बजकर 51 मिनट तक
  • अभिजित मुहूर्त- दोपहर 12 बजकर 02 मिनट से 12 बजकर 53 मिनट तक 
  • गोधूलि मुहूर्त- 06:37 PM – 07:01 PM
  • अमृत काल – 05:38 PM – 07:17 PM

Hartalika Teej 2022: हरतालिका तीज व्रत आज, बन रहे हैं ये 2 दुर्लभ संयोग, जानें कि जानें व्रत और पूजा से जुड़ी खास बातें

हरतालिका तीज 2022 शुभ योग | Hartalika Teej Yoga


ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, हरतालिका तीज पर इस बार बेहद खास योग बन रहा है. शुभ योग और हस्त नक्षत्र के संयोग में हरतालिका तीज व्रत रखा जा रहा है. पौराणिक मान्यतानुसार, हस्त नक्षत्र में ही मां पार्वती में बालू के शिवलिंग बनाकर हरतालिका तीज की पूजा की थी. शुभ योग में महादेव की पूजा 30 अगस्त 2022, सुबह 1 बजकर 04 मिनट से 31 अगस्त 2022 सुबह 12 बजकर 4 मिनट तक है.

हरतालिका तीज 2022 पूजा नियम | Hartalika Teej Puja Niyam

हरतालिका तीज पर सूर्योदय से पहले स्नानादि से निवृत्त हो जाएं और फिर गौरीशंकर के सामने समक्ष निर्जला व्रत का संकल्प लें. विधिवत महादेव और मां पार्वती की पूजा करें.

हरतालिका तीज की पूजा प्रदोष काल में उत्तम मानी जाती है. इस दिन सूर्यास्त के बाद शुभ मुहूर्त में सुहागिन स्त्रियां सोलह श्रृंगार कर बालू या शुद्ध काली मिट्‌टी से शिव-पार्वती और गणेश जी की मूर्ति बनाएं.

केले के पत्तों से मंडप बनाएं. एक बड़े से तांबे के पात्र में गौरी-शंकर, गणपति की प्रतिमा स्थापित करें. इसे पूजा की चौकी पर रख दें. अब पांच फूलों की माला का फुलेरा बनाकर प्रतिमा के ऊपर लटका दें. हरतालिका तीज की पूजा में फुलेरा का बहुत महत्व है. ये महादेव की पांच पुत्रियों का प्रतीक है.

Hartalika Teej 2022: हरतालिका तीज व्रत के दौरान इन 5 चीजों का दान होता है बेहद शुभ, मां लक्ष्‍मी का मिलेगा विशेष आशीर्वाद!

भोलेनाथ का दूध, दही, घी, शहद, गंगाजल से अभिषेक कर, उन्हें चंदन, मौली, अक्षत, बेलपत्र, धतूरा, शमी पत्र, आंक के पुष्प, भस्म, गुलाल, अबीर आदि अर्पित करें. साथ ही गणेश जी को दूर्वा और जनेऊ चढ़ाएं.

मां पार्वती का षोडोपचार से पूजन कर, सुहाग की पूर्ण सामग्री (कुमकुम, बिंदी, हल्दी, मेहंदी, चूड़ी, महावर, काजल, शीशा, कंघी आदि) अर्पित करें. पूजन के बाद इन सामग्री को ब्राह्मण को दान करें.

हरतालिक तीज पर 16 प्रकार की पत्तियां (बेलपत्र, तुलसी, जातीपत्र, सेवंतिका, बांस, देवदार पत्र, चंपा, कनेर, अगस्त्य, भृंगराज, धतूरा, आम पत्ते, अशोक पत्ते, पान पत्ते, केले के पत्ते, शमी के पत्ते) शिव-पार्वती को अर्पित करने की परंपरा है. 

गौरीशंकर को फल, मिठाई और गणेश जी को मोदक या बेसन के लड्‌डू का भोग लगाएं. धूप, दीप लगाकर हरतालिका तीज व्रत की कथा सुनें. इस दिन शिव चालीसा और पार्वती चालीसा का पाठ करना चाहिए.

अब आरती कर रात्रि जागरण करें. इस दिन रात में सोना निषेध है. रात्रि में महादेव और सभी देवी-देवताओं के भजन करना चाहिए. अगले दिन सुबह स्नान के बाद पूजा-आरती करने के बाद गौरीशंकर की प्रतिमा का विसर्जन करें और फिर जल ग्रहण करके ही व्रत का पारण किया जाता है.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. एनडीटीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

मॉनसून स्किन केयर टिप्स बता रही हैं ब्यूटी एक्सपर्ट भारती तनेजा

[ad_2]

Mohd Aman

Editor in Chief Approved by Indian Government

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button